pinging kya hai

आप में से कुछ लोग ping के बारे में जानते होगे तो कुछ लोगों को कोई idea नहीं होगा कि pinging kya hai और इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है.

अगर आपने ping के बारे में सुना होगा तो आपको पता होगा कि कहीं लोग सोचते हैं कि pinging से उनके website पर traffic आता है.

पर क्या यह बात सही है? मेरे नजरिए से कहु तो नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं है. pinging का आपके website के traffic से कोई लेना देना नहीं होता.

पर pinging कहीं हद तक आपके blog को help करता है. तो आज के article में हम यहीं जानेंगे की pinging kya hai, pinging से होता क्या है, आप इसका इस्तेमाल किस लिए कर सकते हैं और pinging आपके blog के seo को किस तरह असर करता है.

तो first thing first, सबसे पहले हम समझेंगे कि ping क्या होता है.

ping क्या होता है?

तो दोस्तों ping एक तरह का measurement है जिसे यह जानने के लिए इस्तेमाल किया जाता है कि कितने जल्दी data एक जगह से दूसरी जगह पहुंच रहा है.

होता क्या है कि जब कोई system दूसरे system को electronic signal या फिर data भेजता है. तो system उसके response का wait करता है.

response देने तक के जो waiting time होता है उसी से ping को measure किया जाता है. ping जितना कम होगा इतनी fast data delivery होगी. ping जितना ज्यादा होगा उतना ही ज्यादा समय data transfer होने में लगेगा.

कम ping की जरूरत उन जगह पर होती है जहां पर fast data delivery की जरूरत होती है. जैसे real time systems. यह online multiplayer games में भी इस्तेमाल होता है क्योंकि वहां fast data delivery की जरूरत होती है.

तो यह तो हो गई बात ping के basic definition की, अब बात करते हैं कि blogging में Pinging kya hai.

Blog Me Pinging Kya Hai?

तो दोस्तों blogging में ping एक notification होता है search engine bots के लिए. जिससे उन्हें notify किया जाता है कि आपके site पर new content publish हुआ है.

Pinging bloggers के लिए क्यों फायदेमंद है?

pinging उन sites को notify करता है जो blog या फिर blog posts को index करते हैं. साथ ही में ping service search engine bots यानी spiders को भी आपके नए content और posts के बारे में notify करता है.

जिससे आपके blog को search engine bots crawl करने आते हैं और आपके new posts जल्द से जल्द search engine में index होते हैं.

Blog में Ping कैसे करते हैं?

1. Submit Your Blog In Webmaster

यह बहुत ही जरूरी है कि आप अपने blog को webmaster में submit करें, क्योंकि बिना इसके ना ही search engine bots आपके site पर आएंगे और ना ही आपके blog posts index होंगे.

2. Generate Sitemap

Webmaster में blog को submit करने के साथ ही आपको sitemap generate करके webmaster में sitemap submit करना भी जरूरी होता है.

3. Update Ping List In WordPress

अब आपको आपके wordpress में ping list update करनी है. आपको आपके wordpress में उन sites के list को update करना है जो आपके site को ping करें और search engine को notify करें.

ping list के लिए आप हमारे नीचे दिए गए article पर जा सकते हैं जहां पर आपको ping sites की list और उसे कैसे wordpress में update करना है इसकी जानकारी मिल जाएगी.

4. Use plugin

आप चाहे तो plugin का इस्तेमाल कर सकते हैं. आपको wordpress के लिए कहीं ping से सम्बंधित plugins available मिल जाएंगे।

Note:- ज्यादा बार ping करने से आप अपने blog को नुकसान पहुंचाते हैं. जब भी आप अपने blog post कोedit और save करते हैं तो आप का blog उतनी बार ping होता है. तो ज्यादा blog को ping ना करें.

plugins का इस्तेमाल करके आप इसे control कर सकते हैं. मैं आपको recommend करूंगा कि आप दिन में एक बार blog को ping करे. आप इसके लिए wordpress ping optimizer plugin का इस्तेमाल कर सकते हैं.


तो यह थी जानकारी pinging के बारे में, hope मै आपको pinging kya hai और इसके क्या फायदे हैं यह अच्छे से समझा पाया हूं.


 

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम अंकुश एकापुरे है. मै पेशे से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हु. मै महाराष्ट्र का रहने वाला हु. मैंने Snoopy Nerd इस लिए शुरू की ताकि मै भारत के लोगो को ब्लॉग्गिंग के बारे मे जानकारी दे सकू.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here